यह वैक्सीन बचाएगी दुनिया को कोरोनावायरस से

0
93
कोरोना वायरस के खिलाफ भारत को बड़ी कामयाबी

चीनी कोरोनावायरस का अभी तक कोई वैक्सीन तैयार नहीं हो पाया है जिसके कारण पूरी दुनिया में लगातार लॉक डॉन बढ़ाया जा रहा है| लेकिन इस वायरस को हराने के लिए पूरे दुनिया भर में लगातार वैक्सीन बनाने की कोशिश जारी है| एक वैक्सीन को बनाने में कई साल लग जाते हैं उसके बाद वह वैक्सीन कई परीक्षणों से गुजरती है उसके बाद वह मार्केट में आती है|कोरोनावायरस के इस महाजंग में पूरी दुनिया बिना रुके बिना थके काम कर रही है अभी कुछ ऐसी वैक्सीन है जो पूरी दुनिया को कोरोनावायरस से बचा सकती है | इन वैक्सीन के बारे में जाने से पहले यह जान लेते हैं कि इन वैक्सीन को कौन-कौन से परीक्षणों से गुजारना पड़ता है|

पहला टेस्ट इन वैक्सीन का लेबोरेटरी में होता है, जहां पर इन वैक्सीन का जानवरों पर परीक्षण किया जाता है वैक्सीन की प्रतिरोधक क्षमता इससे समझ में आने लगती है| जिसके बाद अगर यह परीक्षण सही पाई जाती है तो फिर इसे इंसानों पर परीक्षण करने के लिए तैयार किया जाता है|

इंसानों पर वैक्सीन का परीक्षण तीन चरणों में पूरा होता है|पहले चरण में भाग लेने वाले इंसानों की संख्या बहुत छोटी होती है और वह स्वास्थ्य होते हैं| दूसरे चरण में भाग लेने वाले इंसानों की संख्या ज्यादा होती है और ग्रुप्स से होते हैं |वैक्सीन कितनी सुरक्षित है इसकी जांच की जाती है| तीसरे चरण में पता लगाया जाता है कि वैक्सीन की खुराक कितनी असरदार है|अभी दुनिया में 90 रिसर्च टीम काम कर रही है जिसमें शिक्षा 6 इस मुकाम पर पहुंच चुकी है कि वह इंसानों पर परीक्षण कर सकें|

MRNA-1273 वैक्सीन

एक अमेरिकी बायो टेक्नोलॉजी कंपनी जो कोविड-19 के वैक्सीन बनाने पर काम कर रही है इसका मकसद है कि किसी व्यक्ति के प्रतिरोधक क्षमता को ट्रेन करेगी ताकि वह करोना वायरस के खिलाफ लड़ सकें और बीमारी को रोके|

INO-4800 वैक्सीन

अमेरिकी बायो टेक्नोलॉजी कंपनी inovio जिसका मुख्यालय पेंसिलवेनिया में है| इस कंपनी का उद्देश्य है ऐसा वैक्सीन तैयार करना है जिसमें मरीज के सेल में प्लाज्मा के जरिए डीएनए इंजेक्ट किया जा सके जिससे शरीर में कोविड-19 से लड़ने के लिए एंटीबॉडी तैयार हो सके|

कोरोना वायरस के खिलाफ भारत को बड़ी कामयाबी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here